जनसंख्या वृद्धि की समस्या पर निबंध | बढ़ती जनसंख्या की समस्या पर निबंध

बढ़ती जनसंख्या की समस्या पर निबंध
बढ़ती जनसंख्या की समस्या पर निबंध

रूपरेखा: प्रस्तावना – विकास की गति अवरुद्ध हो गई है – जनसंख्या वृद्धि के कारण – वोट बैंक, जनसंख्या-नियंत्रण में बाधा – पाकिस्तानी और बांगलादेशी नागरिकों का अवैध रूप से रहना – इसका उपसंहार है।

जनसंख्या की समस्या और उसका समाधान

जनसंख्या एक महत्वपूर्ण मापदंड है जो एक देश या क्षेत्र के विकास और प्रगति की माप करने के लिए उपयोग होता है। दुनिया भर में जनसंख्या का तेजी से बढ़ता हुआ वृद्धि बहुत चिंता का विषय है, खासकर उन देशों के लिए जो पहले से ही गरीबी, अनिश्चितता, और सामाजिक समस्याओं का सामना कर रहे हैं।

जनसंख्या की अनुमानित वृद्धि के साथ, इसे नियंत्रित रखना और जनसंख्या समस्या का समाधान करना आवश्यक है। यह निबंध जनसंख्या की समस्या पर विचार करेगा और उसका समाधान करने के लिए विभिन्न पहलुओं को विचार करेगा।

बढ़ती जनसंख्या भी भारत की गहन समस्या है । इसने देश के विकास कार्यो को बौना, जीवनयापन को अत्यन्त दुरूह तथा जीवन-शैली को उच्छुंखल और कुरूप बना दिया है। इसका परिणाम है, आज भारत की 60 प्रतिशत जनता गरीबी की सीमा-रेखा से नीचे जीवनयाएन करने को विवश हो चुके है। वह भूखे पेट को शांत करने के लिए असामाजिक कार्य करने लगे है।

ALSO READ: यूपीएससी पाठ्यक्रम 2024 | यूपीएससी सिलेबस हिंदी में | सीएसई प्रीलिम्स और मेन्स के लिए आईएएस सिलेबस

भारत के उद्योगों को आत्मनिर्भर बनाने, अपने पैरों पर खड़ा करने की भी समस्या है। कारण, विदेशी पूँजी और टेक्नीक भारतीय उद्योग को परतन्त्रता के लौह-पाश में जकड़ती जा रही हैं । आज विदेशी पूँजी और तकनीकी ने भारत में विदेशी बहुउद्देशीय कंपनियों का साम्राज्य स्थापित कर दिया है। भारत का कुटीर-उद्योग और लघु-उद्योग मर रहे हैं और औद्योगिक समूहों की आर्थिक स्थिति डगमगा रही है।

जनसंख्या की समस्या

भारत में जनसंख्या की समस्या बहुत गंभीर रूप ले चुकी है। भारतीय जनसंख्या बहुत तेजी से बढ़ रही है और वर्ष 2050 तक सबसे अधिक आबादी वाला देश बनने की संभावना है। इस वृद्धि के कारण, सामाजिक, आर्थिक, और स्वास्थ्य समस्याएं उत्पन्न हो रही हैं।

आर्थिक परिस्थितियाँ

जनसंख्या की बेतहाशा वृद्धि के कारण, आर्थिक समस्याएं उत्पन्न हो रही हैं। अपर्याप्त रोजगार अवसर, बेरोजगारी, और गरीबी विशेष रूप से विकासशील देशों में समस्याएं हैं। आर्थिक समस्याओं का समाधान तात्कालिक और स्थायी संशोधन की आवश्यकता है।

स्वास्थ्य सेवाएं

विकासशील देशों में जनसंख्या की बेतहाशा वृद्धि के कारण स्वास्थ्य सेवाओं की कमी हो रही है। बढ़ती आबादी वाले क्षेत्रों में स्वास्थ्य सेवाओं का भरपूर व्यवस्थित होना मुश्किल हो रहा है। इससे प्रस्तावित जनसंख्या न्यूनतम स्वास्थ्य सेवा प्रदान करने की संभावना है, जो जनसंख्या की समस्या को और भी बढ़ा सकती है।

शिक्षा की उपलब्धता

जनसंख्या की वृद्धि के साथ, शिक्षा की मांग भी बढ़ती जा रही है। बढ़ती आबादी के कारण, शिक्षा की उपलब्धता में कमी हो रही है, विशेष रूप से गरीब और छोटे शहरों में। शिक्षा के अभाव में लोगगुमराह हो जाते हैं और समाज के विभिन्न क्षेत्रों में विभाजन हो जाता है। शिक्षा के विकास के लिए जनसंख्या समस्या का समाधान महत्वपूर्ण है।

पर्यावरण की बदलती स्थिति

जनसंख्या की बेतहाशा वृद्धि के कारण, पर्यावरण पर अत्यधिक दबाव पड़ रहा है। वृक्षारोपण की कमी, जल संकट, और प्रदूषण की बढ़ती समस्या जनसंख्या के विकास के लिए अभावशीलता उत्पन्न कर रही है। इसलिए, पर्यावरण की संरक्षण और विकास के बीच संतुलन बनाए रखने के लिए जनसंख्या समस्या का समाधान आवश्यक है।

जनसंख्या समस्या के समाधान के लिए पहल:

जनसंख्या नियंत्रण कानूनों की संशोधन

जनसंख्या समस्या का समाधान करने के लिए, सरकारों को जनसंख्या नियंत्रण कानूनों को संशोधित करने की आवश्यकता है। इन कानूनों के माध्यम से गर्भनिरोधक उपायों, जनसंख्या पर जागरूकता, और नियंत्रित परिवार नियोजन को प्रोत्साहित किया जा सकता है।

पाकिस्तानी तथा बंगला देशी नागरिकों का अवैध रूप से रहना दूसरी ओर, भारत में लगभग एक करोड़ पाकिस्तानी तथा बंगला देशी नागरिक अवैध रूप से रहते हैं। वोट के लोभी राजनीतिक दलों की कृपा से येन-केन-प्रकारेण ये वोटर भी हैं। इनमें से अधिकांश मुसलमान हैं। अल्पसंख्यक और वोटर, ऐसे जनों को देश से बाहर कौन निकाल कर जनसंख्या पर नियंत्रण करना चाहेगा ?

शिक्षा और जागरूकता कार्यक्रम

जनसंख्या के समाधान के लिए, शिक्षा और जागरूकता कार्यक्रम अत्यंत महत्वपूर्ण हैं। इन कार्यक्रमों के माध्यम से जनसंख्या नियंत्रण, गर्भनिरोधक उपाय, स्वास्थ्य सेवाएं, और जनसंख्या की महत्वपूर्णता पर जागरूकता बढ़ाई जा सकती है।

स्त्री सशक्तिकरण

जनसंख्या समस्या का समाधान करने के लिए, स्त्रियों के सशक्तिकरण की आवश्यकता है। स्त्रियों को शिक्षा, स्वास्थ्य सेवाएं, और नियंत्रित परिवार नियोजन की सुविधा प्रदान करनी चाहिए ताकि वे अपने निर्णयों को स्वतंत्र रूप से ले सकें।

इसे भी पढ़ें :संघर्ष के समय न भूले Swami Vivekanand की ये बातें

गर्भनिरोधक उपायों की प्रवृत्ति

जनसंख्या की समस्या को हल करने के लिए, गर्भनिरोधक उपायों की प्रवृत्ति बढ़ानी चाहिए। सरकारों को गर्भनिरोधक उपायों की पहुंच बढ़ाने के लिए सुविधाएं प्रदान करनी चाहिए और जनता को जागरूक करने के लिए जागरूकता कार्यक्रम आयोजित करने चाहिए।

समाप्ति

जनसंख्या समस्या आजकल एक महत्वपूर्ण मुद्दा है जिसेसंभावित समाधान की आवश्यकता है। जनसंख्या की बेतहाशा वृद्धि से उत्पन्न समस्याओं का समाधान करने के लिए, सरकारों, सामाजिक संगठनों, और व्यक्तिगत स्तर पर हमारे सभी का सहयोग आवश्यक है।

संघर्ष के बजाय, हमें समाधान-मुद्रा में समझौता करना चाहिए और संगठन, ज्ञान, और संसाधनों को मिलाकर इस महत्वपूर्ण मुद्दे का समाधान ढूंढना चाहिए। जनसंख्या के समस्या का समाधान आवश्यक है ताकि हम सभी एक स्वस्थ, विकसित, और समृद्ध दुनिया में रह सकें।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *